Namaz Me Padhi Jane Wali Dua

नमस्कार दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे की हर Namaz Me Padhi Jane Wali Dua कौन सी है इसके बारे में विस्तार से बताएंगे। जिससे आप इसे आसानी से याद करके अपनी हर नमाज़ में पढ़ सकते हैं और यह भी बताएंगे की नमाज़ में क्या-क्या पढ़ा जाता है और कब पढ़ा जाता है।

जैसा की आप सभी जानते ही है की कुरआन के मुताबिक हर मुसलमान को पांच वक्त की नमाज पढ़नी चाहिए लेकिन बहुत ही कम लोग ऐसे होते हैं जिनको पूरी तरीके से यह मालूमात होती है कि नमाज में कौन सी दुआ पढ़ी जाती है।

अगर आप लोगों को यह सारी जानकारी नहीं है तो आप लोग हमारे आर्टिकल को आखिरी तक पढ़ ले इसमें आप लोगों को यह सारी जानकारी हासिल हो जाएगी।

नमाज़ की नीयत की दुआ

इन्नी वाज्जःतु वजहिया लिल्लज़ी फतरसामावाती वलअर्ज़ा हनी -फ़ो -व- वमा आना मिनल मुशरिकीन

तकबीर हिंदी में

अल्लाहु अकबर

सना दुआ हिंदी में

सुब्हान-कल्ला हुम्मा व बिहम्दिका व तबा-रा-कस्मुका व तआला जद्दु-का वलाइलाहा ग़ैरुक।

तव्वुज़

अऊज़ुबिल्लाहि मिनश शैतानिर रज़ीम 

तस्मियाह

बिस्मिल्लाहिर रहमानिर्रहीम

सूरह फातिहा हिंदी में

अल्हम्दुलिल्लहि रब्बिल आलमीन 

अर रहमा-निर-रहीम 

मालिकि यौमिद्दीन 

इय्याका न अबुदु व इय्याका नस्तईन 

इहदिनस् सिरातल मुस्तक़ीम 

सिरातल लज़ीना अन अमता अलय हिम 

गैरिल मग़दूबी अलय हिम् वलज़्ज़ाल्लीन (आमीन)।

फातिहा के बाद की दुआ

सूरह फातिहा के बाद क़ुरान शरीफ की कोई सूरह या फिर आप चारो कुल में से किसी सूरह को पढ़ा जाता है। या फिर नमाज़ में पढ़ी जाने वाली छोटी सूरह को पढ़ सकते हैं।

रुकू यानी झुकने  में ये तस्बीह पढ़े

सुब्हाना रब्बीयल अज़ीम

कौमा यानी रुकू से उठने के बाद

समिअल्लाहु लिमन हमिदह

खड़े (कौमा) में

रब्बना लकल हम्द

सज़दा की तस्बीह

सुब्हा-ना रब्बियल आला

सज़दा के दरमियान की दुआ

अल्लाहुम्मग्फिरली वरहमनी वहदीनी वअ-फिनी वरज़ुक-नी वज़बुर-नी वर्फा-नी

अत्तहिय्यात दुआ

अत्तहिय्यातु लिल्लाहि वस्सलवातु वत्तय्यिबातु अस्सलामु अलैका अय्युहन-नबिय्यु व रहमतुल्लाहि व ब-रकातुहू अस्सलामु अलैना व अला इबादिल्ला हिस्सालिहीन अशहदु अल्ला इला-हा इल्लल्लाहु व अशहदु अन्ना मुहम्मदन अब्दुहू व रसूलुहू।

See also  Azan Ke Baad Ki Dua | अज़ान के बाद की दुआ हिंदी, इंग्लिश और अरबी में

दुरूद शरीफ

अल्लाहुम्मा सल्लि अला मुहम्मदिंव वअला आलि मुहम्मदिन कमा सल्लैता अला इब्राहीमा व अला आलि इब्राहि-म इन्न-क हमीदुम्मजीद । अल्लाहुम्मा बारिक अला मुहम्मदिंव व अला आलि मुहम्मदिन कमा बारकता अला इब्राहिमा व अला आलि इब्राहि-म इन्नका हमीदुम्मजीद ।

दुआ ए माशूरा

अल्ला हुम्मा इन्नी ज़लम्तु नफ़्सी ज़ुलमन कसीरंव वला यग़्फिरुज़-जुनूब इल्ला अन-त फ़गफ़िरली मग़-फिरतम मिन इनदिका वर-हमनी इन्नका अन्तल गफ़ुरुर्रहीम।

फ़र्ज़ नमाज के बाद

अल्लाहुम्मा अन्तस्सलामु व मिनकस्सलामु तबारकता या ज़ल-ज़लालि वल इकराम।

दुआ ए क़ुनूत

अल्लाहुम्मा इन्ना नस्तईनुका वनसतग़ फिरूका व नु’अ मिनु बिका व न तवक्कलु अलैका व नुस्नी अलैकल खैर व नश कुरुका वला नकफुरुका व नख्लऊ व नतरुकु मैंय्यफ-जुरूका अल्लाहुम्मा इय्याका नअबुदु व ल-क- नुसल्ली व नस्जुदु वआलैका नस्आ व नह-फिदु व नरजू रहमतका व नख्शा अज़ाबका इन्ना अज़ा-ब-क बिल क़ुफ़्फ़ारिल मुलहिक़

Har Namaz Me Padhi Jane Wali Dua

Surah al fatiha in  Arabic

 بِسْمِ اللَّـهِ الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيم 

الْحَمْدُ لِلَّـهِ رَبِّ الْعَالَمِينَ 

الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيمِ 

مَالِكِ يَوْمِ الدِّينِ 

إِيَّاكَ نَعْبُدُ وَإِيَّاكَ نَسْتَعِينُ 

اهْدِنَا الصِّرَاطَ الْمُسْتَقِيمَ 

صِرَاطَ الَّذِينَ أَنْعَمْتَ عَلَيْهِمْ غَيْرِ الْمَغْضُوبِ عَلَيْهِمْ وَلَا الضَّالِّينَ 

सुरः अल-फातिहा:

बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम

अल्हम्दु लिल्लाहि रब्बिल आलमीन

अर्रहमानिर्रहीम

मालिकि यौमिद्दीन

इय्या-क न बुदु व इय्या-क नस्तीइन

इहदिनस्सिरातल्-मुस्तकीम

सिरातल्लज़ी-न अन्अम्-त अलैहिम

गैरिल्-मग़जूबि अलैहिम् व लज्जॉल्लीन

✦ तर्जुमा ✦

अल्लाह के नाम से जो रहमान व रहीम है।

तारीफ़ अल्लाह ही के लिये है जो तमाम क़ायनात का रब है।

रहमान और रहीम है।

रोज़े जज़ा का मालिक है।

हम तेरी ही इबादत करते हैं, और तुझ ही से मदद मांगते है।

हमें सीधा रास्ता दिखा।

उन लोगों का रास्ता जिन पर तूने इनाम फ़रमाया

जो माअतूब नहीं हुए, जो भटके हुए नहीं है।

Surah Al Falaq [113]

Surah Al Falaq in Arabic 

بِسْمِ اللَّـهِ الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيمِ

قُلْ أَعُوذُ بِرَبِّ الْفَلَقِ 

مِن شَرِّ مَا خَلَقَ 

See also  Sone Ki Dua in Hindi, English & Arabic | Sone Se Pehle Ki Dua

وَمِن شَرِّ غَاسِقٍ إِذَا وَقَبَ 

ِوَمِن شَرِّ النَّفَّاثَاتِ فِي الْعُقَدِ 

وَمِن شَرِّ حَاسِدٍ إِذَا حَسَدَِ 

सुरः अल-फलक

बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम

कुल अऊजु बिरब्बिल फलक

मिन शर रिमा ख़लक़

वामिन शर रिग़ासिकिन इज़ा वकब

वमिन शर रिन नफ़फ़ासाति फ़िल उक़द

वमिन शर रि हासिदिन इज़ा हसद

✦ तर्जुमा ✦

अल्लाह के नाम से जो रहमान व रहीम है।

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि मैं सुबह के मालिक की

हर चीज़ की बुराई से जो उसने पैदा की पनाह माँगता हूँ

और अंधेरीरात की बुराई से जब उसका अंधेरा छा जाए

और गन्डों पर फूँकने वालियों की बुराई से

(जब फूँके) और हसद करने वाले की बुराई से

Surah An Naas [114]

Surah An Naas in Arabic 

بِسْمِ اللَّـهِ الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيمِ

قُلْ أَعُوذُ بِرَبِّ النَّاسِ 

مَلِكِ النَّاسِ 

إِلَـٰهِ النَّاسِ 

مِن شَرِّ الْوَسْوَاسِ الْخَنَّاسِ 

الَّذِي يُوَسْوِسُ فِي صُدُورِ النَّاسِ 

مِنَ الْجِنَّةِ وَالنَّاسِ 

सुरः अन-नास

बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम

कुल अऊजु बिरब्बिन नास

मलिकिन नास

इलाहिन नास

मिन शर रिल वसवा सिल खन्नास

अल्लज़ी युवस विसु फी सुदूरिन नास

मिनल जिन्नति वन नास

✦ तर्जुमा ✦

अल्लाह के नाम से जो रहमान व रहीम है।

(ऐ रसूल) तुम कह दो मैं लोगों के परवरदिगार

लोगों के बादशाह

लोगों के माबूद की (शैतानी)

वसवसे की बुराई से पनाह माँगता हूँ

जो (ख़ुदा के नाम से) पीछे हट जाता है जो लोगों के दिलों में वसवसे डाला करता है

जिन्नात में से ख्वाह आदमियों में से

 Surah Al Ikhlas [112]

Surah Al Ikhlas in Arabic 

بِسْمِ اللَّـهِ الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيمِ

قُلْ هُوَ اللَّـهُ أَحَدٌ 

اللَّـهُ الصَّمَدُ 

لَمْ يَلِدْ وَلَمْ يُولَدْ 

وَلَمْ يَكُن لَّهُ كُفُوًا أَحَدٌ 

सुरः इखलास

बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम

कुल हुवल लाहू अहद

अल्लाहुस समद

लम यलिद वलम यूलद

वलम यकूल लहू कुफुवन अहद

✦ तर्जुमा ✦

अल्लाह के नाम से जो रहमान व रहीम है।

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि ख़ुदा एक है

ख़ुदा बरहक़ बेनियाज़ है

न उसने किसी को जना न उसको किसी ने जना

See also  Nazar Se Bachne Ki Dua

और उसका कोई हमसर नहीं

Surah Kafiroon [109]

Surah Kafiroon in Arabic 

بِسْمِ اللَّـهِ الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيمِ

قُلْ يَا أَيُّهَا الْكَافِرُونَ 

لَا أَعْبُدُ مَا تَعْبُدُونَ 

وَلَا أَنتُمْ عَابِدُونَ مَا أَعْبُدُ 

وَلَا أَنَا عَابِدٌ مَّا عَبَدتُّمْ 

وَلَا أَنتُمْ عَابِدُونَ مَا أَعْبُدُ 

لَكُمْ دِينُكُمْ وَلِيَ دِينِ 

सुरः काफ़िरून

बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम 

कुल या अय्युहल काफिरून

ला अ’अबुदु मा तअ’बुदून

वला अन्तुम आबिदूना मा अ’अबुद

वला अना आबिदुम मा अबद्तुम

वला अन्तुम आबिदूना मा अअ’बुद

लकुम दीनुकुम वलिय दीन

✦ तर्जुमा ✦

अल्लाह के नाम से जो रहमान व रहीम है।

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि ऐ काफिरों!

तुम जिन चीज़ों को पूजते हो, मैं उनको नहीं पूजता

और जिस (ख़ुदा) की मैं इबादत करता हूँ उसकी तुम इबादत नहीं करते

और जिन्हें तुम पूजते हो मैं उनका पूजने वाला नहीं

और जिसकी मैं इबादत करता हूँ उसकी तुम इबादत करने वाले नहीं

तुम्हारे लिए तुम्हारा दीन मेरे लिए मेरा दीन

Surah Al Qadr [97]

Surah Al Qadr in Arabic 

بِسْمِ اللَّـهِ الرَّحْمَـٰنِ الرَّحِيمِ

إِنَّا أَنزَلْنَاهُ فِي لَيْلَةِ الْقَدْرِ 

وَمَا أَدْرَاكَ مَا لَيْلَةُ الْقَدْرِ 

لَيْلَةُ الْقَدْرِ خَيْرٌ مِّنْ أَلْفِ شَهْرٍ 

تَنَزَّلُ الْمَلَائِكَةُ وَالرُّوحُ فِيهَا بِإِذْنِ رَبِّهِم مِّن كُلِّ أَمْرٍ 

سَلَامٌ هِيَ حَتَّىٰ مَطْلَعِ الْفَجْرِ 

सुरह क़द्र

बिस्मिल्लाह-हिर्रहमान-निर्रहीम

इन्ना अनज़ल नाहु फ़ी लैलतिल कद्र

वमा अदरा कमा लैलतुल कद्र

लय्लतुल कदरि खैरुम मिन अल्फि शह्र

तनज़ ज़लूल मला इकतु वररूहु फ़ीहा

बिइज़्नि रब्बिहिम मिन कुल्लि अम्र

सलामुन हिय हत्ता मत लइल फज्र

✦ तर्जुमा ✦

अल्लाह के नाम से जो रहमान व रहीम है।

हम ने कुरान को शबे क़द्र में उतारा है

और आप को मालूम है कि शबे क़द्र क्या है ?

शबे क़द्र हज़ार महीनों से बेहतर है

जिस में फ़रिश्ते रूहुल क़ुदुस (जिबरईल अलैहिस सलाम)

अपने रब की इजाज़त से हर हुक्म को लेकर उतरते हैं

ये रात सरापा सलामती है, जो सुबह होने तक रहती है

Leave a Comment