इफ्तार की दुआ हिंदी में | Iftar Ki Dua in Hindi

अस्सलामो अलैकुम मेरे मुसलमान भाईयो और बहनो आज के इस लेख में आप जानेगें Iftar Ki Dua in Hindi में विस्तार से और सरल भाषा में क्योंकि यहाँ हम आपके लिए इफ्तार की दुआ हिंदी में ,अंग्रेजी में और अरबी में अनुवाद के साथ लेकर आयें हैं जिससे आप बड़े ही आसानी से रोज़ा खोलने की दुआ को पढ़कर याद कर सकते हैं।

इफ्तार क्या है?

इफ्तार एक अरबी भाषा का शब्द है जिसका मतलब होता है की “रोज़ा टूटने के बाद पहली चीज़ खाना” उसी को इफ्तार कहते है। जब रमजान के महीने में रोज़ा रखते और जब पहली चीज खाते है तो उसे इफ्तार कहते है इस्लाम में रोजा को बहुत फ़ज़ीलत बताया गया है।

दोस्तों इफ्तार की शुरुआत खजूर खाने से करें और अगर खजूर नहीं है तो कोई मीठी चीज़ या पानी से करें। एक बात का जरुर ध्यान रहे की ज्यादा ठंडा या बर्फ वाला पानी ना पिए इससे तबियत ख़राब होने की संभवाना होती है।

इफ्तार के वक़्त उतना ही खाए जिससे आपको कोई दिक्कत न हो क्योंकि एकदम से खली पेट में ज्यादा पानी या खाने से पेट दर्द होने की दिक्कत हो जाती है।

See also  सिर दर्द की दुआ हिंदी में|Sar Dard Ki Dua In Hindi

रोज़ा रखने का तरीका

रोज़ा रखने के लिए फज्र की नमाज़ से पहले सेहरी खाई जाती है। सेहरी खाने के बाद अगर कुछ खाया जाता है तो वह रोज़ा नहीं माना जाता। इसके अलावा, आप पूरे दिन भी कुछ नहीं खा सकते हैं। अगर आप अपने मन मुताबिक खाते हैं, तो आपका रोज़ा रखने का कोई फायदा नहीं होगा।

इफ्तार करने का सही वक़्त क्या है?

इफ्तार का सही वक़्त सूरज ढलने के बाद होता है यानि जब मग़रिब की अज़ान होने लगे तो समझ जाए की इफ्तार का वक़्त शुरू हो गया है।

लेकिन कुछ जगह पर अज़ान नहीं होती तो वहां पर इफ्तार का वक़्त कैसे मालूम करे। इसके लिए आपके पास बहुत सी चीज़े है जिससे इफ्तार के वक़्त का मालूम कर सकते है। मोबाइल में सेहरी और इफ्तार के वक़्त वाली एप्लीकेशन डाउनलोड कर सकते हैं। या गूगल पर सर्च करके “इफ्तार का वक़्त” पता लगा सकते है।

रोज़ा खोलने के लिए अज़ान का होना सर्त नहीं है बल्कि जब सही वक़्त हो जाए तो बेझिझक रोज़ा खोल ले।

Iftar Ki Dua in Hindi

अल्लाहुम्मा इन्नी लका सुम्तु वा बिका आमंतु वा अलयका तवाक्कल्तू वा अला रिज़किका अफ्तर्तु।

Iftar Ki Dua Ka Tarjuma In Hindi

ओ अल्लाह! मैंने आपके लिए उपवास किया और मैं आप पर विश्वास करता हूं और मैंने आप पर भरोसा किया है और मैं आपके भोजन से अपना उपवास तोड़ता हूं।

Iftar Ki Dua In English

Allahumma inni laka sumtu wa bika aamantu wa ‘alaika tawakkaltu wa ‘ala rizq-ika aftartu

Iftar Ki Dua Ka Tarjuma In English

O Allah! I fasted for you and I believe in you and I put my trust in You and I break my fast with your sustenance.

See also  सफ़र की दुआ हिंदी, इंग्लिश और अरबी में | Safar Ki Dua In Hindi

Iftar Ki Dua In Arabic

اَللّٰهُمَّ اِنَّی لَکَ صُمْتُ وَبِکَ اٰمَنْتُ وَعَلَيْکَ تَوَکَّلْتُ وَعَلٰی رِزْقِکَ اَفْطَرْتُ

Iftar Ki Dua Ka Tarjuma In Arabic

اے اللہ!میں نے تیری خاطر روزہ رکھا اور تیرے اوپر ایمان لایا اور تجھ پر بھروسہ کیا اورتیرے رزق سے اسے کھول رہا ہوں.

इफ़्तार की दुआ कब पढनी चाहिए?

इफ्तार का दुआ पढ़ने का सही वक़्त क्या है? दोस्तों जब आपको लगे की इफ्तार का वक़्त होने में बस कुछ ही वक़्त बचा है और आपके सामने रोज़ा खोलने के लिए गिज़ा (खाने पीने वाली चीज़) है। तो अब अपने दोनों हाथो को अल्लाह सुबान व ता’अला की बारगाह में हाथ उठा कर यह दुआ पढ़ ले।

फिर इफ्तार करना शुरू कर दें यानि खाना शुरू कर दें। यह दुआ पढ़ने में मुश्किल से 10 सेकंड्स भी नहीं लगेगा यानि जब अज़ान होने लगे या होने वाले है तो ऊपर बताये हुए दुआ को पढ़ लें।

निष्कर्ष

दोस्तों मुझे उम्मीद है की Iftar ki Dua in Hindi, Iftar ki Dua ka Sahi Samay आप सभी को अच्छे से समझ में आ गई होगी। अगर इफ़्तार की दुआ हिंदी में समझने में आपको कोई दिक्कत आती है तो आप हमें कमेट करके पूछ सकते हैं ।

Leave a Comment