Dua-e-Qunoot in Hindi, English, Arabic | दुआ ए क़ुनूत

Dua-e-Qunoot in Hindi: हमारे नबी मोहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहु अलैहे वसल्लम ने हर एक काम के लिए दुआ और उसका सही तरीका बताया है और उसी के साथ उसके फायदा भी बताया है। इसीलिए कहा जाता है की दीने इस्लाम एक मुकम्मल दीन है जिसमे हर एक मुस्किल का हल दिया गया है।

इसलिए आज हम इस लेख के माध्यम से आपके लिए लेकर आये है Dua-e-Qunoot, Surah Qunoot हिंदी, अंग्रेजी और अरबी में जिसे आप आसानी से पढ सकते हैं।

दुआ क़ुनूत को वित्र की दुआ भी कहा जाता है। इस दुआ को हमने तीन भाग दुआ क़ुनूत इन हिंदी, दुआ ए क़ुनूत इन इंग्लिश और दुआ क़ुनूत इन अरबी में लिखा है।

Dua-e-Qunoot क्या है?

इस्लामी की दुआ ए क़ुनूत जिसे याचिकात्मक प्रार्थना कहते है। सुन्नत के वित्र को एक संदर्भ के रूप में इस्तेमाल करते हुए, आप इसे पेश करके उत्साहपूर्वक प्रार्थना कर सकते हैं।

Dua-e-Qunoot कैसे और कब पढ़ी जाती है?

Dua e Qunoot को ईशा की नमाज़ के वक़्त वित्र वाज़िब नमाज़ के तीसरी रकअत में पढ़ा जाता है। 

Dua-e-Qunoot की पृष्ठभूमि

हसन इब्न अली ने मुहम्मद इब्न ‘ईसा एट-तिर्मिज़ी, अहमद और अबू दाऊद ने आगे दावा किया कि हज़रत मुहम्मद इस दुआ को हर बार दोहराते रहेंगे जब मुसलमानों को अत्यधिक खतरे या त्रासदी का सामना करना पड़ेगा।

इब्न अली ने कहा कि पवित्र पैगंबर (PBUH) ने मुझे यह दुआ सौंपी और सिफारिश की है, कि मैं वित्र की नमाज के दौरान इसका उच्चारण करूं। पूरे वर्ष के दौरान, पैगंबर मुहम्मद (S.A.W) ने वित्र और फज्र में दुआ ए क़ुनूत का पाठ किया।

See also  सेहरी की नीयत की दुआ हिंदी, इंग्लिश और अरबी में | Sehri Ki Niyat ki Dua

Dua-e-Qunoot In Hindi

अल्लाहुम्मा इन्ना नस्तईनुका वनसतग़ फिरूका व नु’अ मिनु बिका व न तवक्कलु अलैका व नुस्नी अलैकल खैर व नश कुरुका वला नकफुरुका व नख्लऊ व नतरुकु मैंय्यफ-जुरूका अल्लाहुम्मा इय्याका नअबुदु व ल-क- नुसल्ली व नस्जुदु वआलैका नस्आ व नह-फिदु व नरजू रहमतका व नख्शा अज़ाबका इन्ना अज़ा-ब-क बिल क़ुफ़्फ़ारिल मुलहिक़

Dua-e-Qunoot का तर्जुमा

या अल्लाह , हम तुझसे मदद चाहते हैं और तूझसे माफी भी मांगते हैं, तुझ पर ईमान भी रखते हैं और तुझ पर भरोसा करते हैं और तेरी बहुत अच्छी तारीफ करते हैं और तेरा शुक्र अदा करते हैं ना शुक्री नहीं करते । उस शख्स को अलग करते हैं और छोड़ते हैं जो अल्लाह की नाफरमानी करें ।

ऐ अल्लाह , हम तेरी ही इबादत करते हैं और तेरे लिए ही नमाज़ पढ़ते और सजदा करते हैं और तेरी तरफ दौड़ते और झपटते हैं और तेरी रहमत के उम्मीदवार हैं और तेरे आजाब़ से डरते हैं, बेशक तेरा आजाब़ काफिरों को पहुंचने वाला है ।

Dua-e-Qunoot In English

Allah humma inna nasta-eenoka wa nastaghfiruka wa nu’minu bika wa natawakkalu alaika wa nusni alaikal khair, Wa nashkuruka wala nakfuruka wa nakhla-oo wa natruku mai yafjuruka, Allah humma iyyaka na’budu wa laka nusalli wa nasjud wa ilaika nas aaa wa nahfizu wa narju rahma taka wa nakhshaa azaabaka inna azaabaka bil kuffari mulhik.

Dua e Qunoot English तर्जुमा

O Allah! We implore You for help and beg forgiveness of You and believe in You and rely on You and extol You and we are thankful to You and are not ungrateful to You and we alienate and forsake those who disobey You. O Allah! You alone do we worship and for You do we pray and prostrate and we betake to please You and present ourselves for the service in Your cause and we hope for Your mercy and fear Your chastisement. Undoubtedly, Your torment is going to overtake infidels O Allah!

See also  Namaz Me Padhi Jane Wali Dua

Dua-e-Qunoot In Arabic

Dua-e-Qunoot in hindi

للَّهُمَّ إنا نَسْتَعِينُكَ وَنَسْتَغْفِرُكَ وَنُؤْمِنُ بِكَ وَنَتَوَكَّلُ عَلَيْكَ وَنُثْنِئْ عَلَيْكَ الخَيْرَ وَنَشْكُرُكَ وَلَا نَكْفُرُكَ وَنَخْلَعُ وَنَتْرُكُ مَنْ ئَّفْجُرُكَ اَللَّهُمَّ إِيَّاكَ نَعْبُدُ وَلَكَ نُصَلِّئ وَنَسْجُدُ وَإِلَيْكَ نَسْعأئ وَنَحْفِدُ وَنَرْجُو رَحْمَتَكَ وَنَخْشآئ عَذَابَكَ إِنَّ عَذَابَكَ بِالكُفَّارِ مُلْحَقٌ

निष्कर्ष

दोस्तों जीवन में सबसे मजबूत रिश्ता अल्लाह के साथ है। यदि आप उसके साथ संबंध बनाए रखना चाहते हैं तो अल्लाह से प्रार्थना करना चाहिए। अल्लाह के प्रति हमारी प्रतिबद्धता और प्रेम के लिए, पैगंबर मुहम्मद (PBUH) ने हमें Dua-e-Qunoot पर निर्देश प्रदान किए।

अल्लाह हमारे और आपके गुनाहों को माफ फरमाए और हमे इस्लाम कि हर चोटी से बड़ी छीजे सीखने की हिदायत फरमाए, अस्सलाम अलैकुम व रहमतुल्लाह व बरकातहू।

Leave a Comment